क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

0
111

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल।

 देश के सबसे बड़े अस्पताल और शोध संस्थान एम्स (Aiims) ने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग,

 पंजाब (Punjab) , राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और अन्य प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य भागीदारों के साथ गुणवत्ता सुधार परियोजना की शुरुआत की है।

यह परियोजना समुदाय में उच्च रक्तचाप और मधुमेह से निपटने के उद्देश्य से शुरू की गई है।

17 जनवरी को शहीद भगत सिंह नगर,

 पंजा (Punjab) में सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ एकीकृत ट्रैकिंग,

रेफरल, इलेक्ट्रॉनिक निर्णय समर्थन और देखभाल समन्वय के लिए एक मंच भी विकसित की गई 

इंसान से इंसान में संक्रमण फैलने का प्रमाण नहीं

भारत सरकार के राष्ट्रीय वेक्टरजनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के सलाहकार डा. ए सी धारीवाल ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर स्थिति स्पष्ट की है।

डॉ. धारीवाल के मुताबिक,

यह वायरस इंसान से इंसानों के शरीर में प्रवेश करता है,

इससे संबंधित फिलहाल कोई प्रमाण नहीं है लेकिन वायरस जानवरों से मानव शरीर में प्रवेश करता है,

इसकी पुष्टि हो चुकी है। वहीं, इस वायरस के बचाव के लिए सभी जरूरी सावधानियां बरती जानी चाहिए।

भारत में कितना खतरा

डॉ . धारीवाल के मुताबिक, देश में वायरस संक्रमण का जोखिम है क्योंकि चीन भारत का पड़ोसी देश है।

वहीं चीन से नेपाल और पाकिस्तान लोग काफी संख्या में आवागमन करते हैं।

यही वजह है कि जोखिम को देखते हुए सरकार ने पिछले तीन दिनों में इसके संक्रमण को रोकने के लिये युद्धस्तर पर प्रयास किए हैं। 

सरीसृप वर्ग के जीवों से वायरस संक्रमण का रहता है जोखिम

डॉ. धारीवाल के मुताबिक,

अब तक किए गए तमाम अध्ययनों से यही नतीजा निकाला गया है कि सरीसृप वर्ग के जीवों से मनुष्यों में वायरस संक्रमण होने का खतरा रहता है।

इस बात की पुष्टि भी हो चुकी है कि यह वायरस (Virus) जीव-जंतुओं से इंसानी शरीर को संक्रमित करता है लेकिन इंसान से इंसानों में संक्रमण के अभी तक कोई प्रमाण नहीं मिले हैं।

पूर्वोत्तर राज्यों और अन्य जनजातीय क्षेत्रों में कोरोना वायरस को जोखिम है।

दूरदराज के जनजातीय इलाकों में इस तरह के संक्रमणों को लेकर लोगों को जागरुक करने की कवायद भी शुरू कर दी गई है।

इसके लिस इंटीग्रेटिड र्सिवलांस कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

कोरोना वायरस के लक्षण

फ्लू से मिलता जुलता लक्षण प्रकट होता है।

जुकाम, नाक बहना, गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here